ये वक्त यूवाओं का 

उठो मित्रों दिखा दो जोश अपने दिल के लहरों का 
है मांग लोगों की तेरे ही जज्बों का एक क्रांति लाने  का । 
जुड़ी है आश सदियों से आएगी सौम्यता एक दिन 
तुझे हर हाल में हो कर नया इतिहास रचना है 

ये रोड़े बीच में आ कर तुझे हर पल गिराएंगे 
वो हर घोल में तुमको हमेशा घुलायेंगे । 
तुम्हें गिरना नहीं है पत्थरों की ठेस से मित्रों 
तुम्हें हर घोल में मिलकर नया मिश्रण बनाना है 

तेरे कर्तव्य के हर मार्ग पर कांटे पिरोये हैं 
तेरे मंजिल की हर एक राह पर गड्ढे खुदायें हैं 
चुभ जाये तो हर दर्द को यूं ही भुलाओ तुम 
यूं ही सम्भल कर, एक नया कर्तव् दिखाओ तुम 

ये जीवन मिला तुमको कर्तव्यनिष्ठ बनने को । 
किसी के आश और विश्वास का अभिमान रखने को 
जीवन की गति और चाल से कुछ सिख लों मित्रों 
ये उनकी आश को परिहास में तुम मत बदलने दो 
ये उनकी आश को परिहास में तुम मत बदलने दो 

                                         (रजनिश प्रियदर्शी )


आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here



Previous Post Next Post