Ticker

6/recent/ticker-posts

Trending

3/recent/ticker-posts

Ad Code

Responsive Advertisement

ये वक्त यूवाओं का




ये वक्त यूवाओं का 

उठो मित्रों दिखा दो जोश अपने दिल के लहरों का 
है मांग लोगों की तेरे ही जज्बों का एक क्रांति लाने  का । 
जुड़ी है आश सदियों से आएगी सौम्यता एक दिन 
तुझे हर हाल में हो कर नया इतिहास रचना है 

ये रोड़े बीच में आ कर तुझे हर पल गिराएंगे 
वो हर घोल में तुमको हमेशा घुलायेंगे । 
तुम्हें गिरना नहीं है पत्थरों की ठेस से मित्रों 
तुम्हें हर घोल में मिलकर नया मिश्रण बनाना है 

तेरे कर्तव्य के हर मार्ग पर कांटे पिरोये हैं 
तेरे मंजिल की हर एक राह पर गड्ढे खुदायें हैं 
चुभ जाये तो हर दर्द को यूं ही भुलाओ तुम 
यूं ही सम्भल कर, एक नया कर्तव् दिखाओ तुम 

ये जीवन मिला तुमको कर्तव्यनिष्ठ बनने को । 
किसी के आश और विश्वास का अभिमान रखने को 
जीवन की गति और चाल से कुछ सिख लों मित्रों 
ये उनकी आश को परिहास में तुम मत बदलने दो 
ये उनकी आश को परिहास में तुम मत बदलने दो 

                                         (रजनिश प्रियदर्शी )
Reactions

Post a Comment

0 Comments

Ad Code

Responsive Advertisement